सुरक्षा नीति पर व्यापक विचार-विमर्श के लिये 56वां म्यूनिख़ सुरक्षा सम्मेलन आयोजित किया गया

अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा नीति पर व्यापक विचार-विमर्श के लिये 14-15 फरवरी को जर्मनी के म्यूनिख़ में 56वां म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन (56th Munich Security Conference) आयोजित किया गया. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने इस सम्मेलन में भारत का प्रतिनिधित्व किया. सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने बहुपक्षवाद को रचनात्मक राजनयिक संपर्क और आपसी समझ से ही मज़बूत करने की बात कही.

इससे पहले श्री जयशंकर ने सम्मेलन के अध्यक्ष वोल्फगांग इशिंजर से मुलाकात की. एक ट्वीट में उन्होंने कहा कि वैश्विक मुद्दों पर एकजुटता से काम करना अमरीका के साथ भारत की कार्यनीतिक भागीदारी का अभिन्न हिस्सा है.

क्या है म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन?

म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा नीति पर व्यापक विचार-विमर्श के लिये एक बड़ा मंच हैं जहां दुनिया भर के नेता और राजनयिक अहम मुद्दों पर अपनी राय रखते हैं. इसकी शुरुआत 1962 में एक जर्मन सैन्य अधिकारी एवाल्ड फोन क्लाइस्ट ने की थी.

लेटेस्ट कर्रेंट अफेयर्स 〉