प्रधानमंत्री ने मथुरा में राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम की शुरूआत की

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 11 सितम्बर को मथुरा में राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम (National Animal Disease Control Programme- NADCP) की शुरूआत की. कार्यक्रम के तहत पचास करोड़ से ज्यादा पशुओं को टीके लगाए जाएंगे. इस अवसर पर राष्ट्रीय कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम और बाबूगढ़ वीर्य केन्द्र की भी शुरूआत की गई. इस पर लगभग 13 हजार करोड़ रुपये की लागत आएगी. इस कार्यक्रम के तहत शत प्रतशित राशि केन्‍द्र सरकार द्वारा उपलब्‍ध कराई जाएगी.

राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम के उद्देश्य

राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम का उद्देश्य पशुओं में खुरपका-मुंहपका और ब्रूसेलोसिस रोगों का उन्मूलन करना है. इस कार्यक्रम के दो घटक हैं जिसमें 2025 तक इन रोगों पर नियत्रंण पाना और 2030 तक इनका उन्‍मूलन करना है. इन दोनों बीमारियों की वजह से दूध और अन्‍य वंशीय पशुओं पर नकारात्‍मक प्रभाव पड़ता है. इस कार्यक्रम के लागू होने से किसानों की आमदनी दुगुनी करने में मदद मिलेगी.

बचाव के लिए दुधारु पशुओं का टीकाकरण

राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत पशुजन्‍य माल्‍टा ज्‍वर से बचाव के लिए हर वर्ष दुधारु पशुओं के तीन करोड़ साठ लाख मादा बच्‍चों का टीकाकरण भी किया जाएगा. यह कार्यक्रम 2024 तक जारी रखा जाएगा. जिन पशुओं का टीकाकरण हो जायेगा उनको पशु आधार यानी यूनीक आई.डी. देकर कानों में टैग लगाया जायेगा. पशुओं को बकायदा स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड भी जारी किया जायेगा.